सैफई विवि में नियम विरुद्ध ओएसडी की नियुक्ति, शासन का आदेश दरकिनार 66 साल की उम्र में भी ओएसडी पद पर तैनात ?

0
244

सैफई (इटावा) उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में स्थापित मेडिकल यूनिवर्सिटी सैफई में ओएसडी का पद स्वीकृत ना होने के बावजूद भी
नियम विरुद्ध तरीके से ओएसडी पद पर बैठे 66 साल की उम्र के जयशंकर
प्रसाद।
मालूम हो 01 जून 2018 को जब सैफई चिकित्सा विश्वविद्यालय में प्रो. डॉ राजकुमार ने पूर्व कुलपति बिग्रेडियर टी प्रभाकर से कुलपति का चार्ज ग्रहण किया तब उस वक्त प्रो.डॉ राजकुमार ने ऑडोटोरियम हॉल में
विश्वविद्यालय के स्टॉफ के बीच अपना पहले संबोधन किया और कहा कि अब तक जो इस विश्वविद्यालय में चलता चला आ रहा था अब वह बिल्कुल नही चलेगा,प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले डाक्टरों को चेतावनी देते हुये कहा था कि प्रैक्टिस को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नही किया जायेगा और विश्वविद्यालय में नियम और कायदे का राज लागू होगा,माफिया गिरी खत्म की जाएगी,लोगों
ने सोचा कि अब राजकुमार युग की शुरुआत हो गया है सब ठीक ठाक चलेगा,03 अक्टूबर 2018 को कुलपति ने विश्वविद्यालय में अपने पहले मोहरे के रूप में नियम कायदे को दरकिनार करते हुये 65 वर्षीय जयशंकर प्रसाद को विश्वविद्यालय के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी के रूप में नियुक्ति करवा ली जिसको व्यवस्थापक बोर्ड की प्रथम बैठक 09 अक्टूबर 2018 के कार्यवृत्त के
अनुमोदन के लिये कुलाधिपति/मुख्यमंत्री को भेजा गया जिसको 66 साल तक के व्यक्ति को 11 माह के कंसलटेंट नियुक्त किये जाने को साफ मना कर दिया गया,लेकिन कुलपति ने शासन के आदेश को दरकिनार करते हुये जयशंकर प्रसाद को मुख्य प्रशासनिक अधिकारी नियुक्त कर उनको अपना सारथी घोषित कर दिया।

इंसेट—–
कुससचिव की उदारता, बार बार बदले पत्र

सैफई। 23 सितंबर 2019 को कुलसचिव सुरेश चंद्र शर्मा ने अपने पत्र संख्या 2359 के माध्यम से सहायक महाप्रबंधक संचालन भूतपूर्व सैनिक कल्याण निगम कानपुर को लिखे पत्र में कहा कि लिखा कि जयशंकर प्रसाद को ओएसडी के पद पर
45000 रुपये पर आपकी एजेंसी के माध्यम से ओएसडी के पद पर नियुक्त किया जाना है। जिनकी उम्र 65 साल से अधिक है। आपसे अनुरोध है कि नियुक्ति सम्बन्धी सभी औपचारिकताएं पूर्ण कर जल्द से जल्द विश्वविद्यालय में नियुक्ति प्रदान करें। 25 अक्टूबर 2019 को फिर एक पत्र सं. 2738 कुलसचिव ने भेजा और जयशंकर प्रसाद को 48450 रुपये पर ओएसडी के पद पर नियुक्त करने का सहायक महाप्रबंधक को लिखा। इसमें कहा गया कि कार्यपरिषद तथा कुलपति के
अनुमोदन के क्रम में नियुक्ति की जानी है सारे फंड सेवाप्रदाता फर्म को
देय होगा। यही नहीं नियुक्ति को 3 सितंबर 2019 से प्रभावी मानने का भी जिक्र किया। 30 नवम्बर 2019 को कुलसचिव के तीसरे पत्र संख्या 3165 में लिखा गया कि आंशिक संशोधन कुलपति महोदय के अनुमोदन के क्रम में किया गया
जिसमें जयशंकर प्रसाद की नियुक्ति 03 सितंबर की जगह 12 सितंबर 2019 रहेगी।

इंसेट—–

निगम में नही है 60 के ऊपर नियुक्ति का नियम

सैफई। विवादों के घेरे में आ रही ओएसडी जयशंकर प्रसाद की नियुक्ति को लेकर नियुक्त अधिकारी ही गोलमोल जवाब दे रहे हैं। भूतपूर्व सैनिक कल्याण निगम के एजीएम एके वासन ने बताया कि निगम में नियुक्त किए जाने वाले हरेक व्यक्ति का फंड काटा जाता है और 60 साल से अधिक उम्र के व्यक्ति का फंड नहीं कट सकता, इसलिए किसी भी व्यक्ति जिसकी उम्र 60 के ऊपर हो उसको
नियुक्ति नहीं दी जा सकती है। ओएसडी की नियुक्ति के संबंध में उन्होंने बताया कि विशेष परिस्थितियों में किसी भी उम्र के व्यक्ति को रखा जा सकता है,लेकिन उनका फंड नहीं काटा जा रहा है।